1Shayari


' हम अपनी मर्जी के शेहजादे हैँ , , फिर बात हो अपने जिने की , , या फिर तुम पर मरने की . . '
 497views
0Like(s)   0Dislike(s)  
Share