hdmavani


ये कफ़न, ये कब्र, ये जनाज़े, सब रस्म ऐ दुनिया है दोस्त, मर तो इन्सान तब ही जाता है, जब याद करने वाला कोई ना हो.
 585views
0Like(s)   0Dislike(s)  
Share