devani.umesh


उनकी आँखों से काश कोई इशारा तो होता, कुछ मेरे जिने का सहारा तो होता, तोड देते हम हर रसम जमाने की, एक बार ही सही उसने पुकारा तो होता.
 376views
0Like(s)   0Dislike(s)  
Share  

You may also like