chandresh.devani


प्रेम न तो किसी शब्द से और न किसी किताब से परिभाषित किया जा सकता है। ये तो सिर्फ महसूस किया जा सकता है।
 584views
0Like(s)   0Dislike(s)  
Share